कुछ कही कुछ अनकही

सुर्खरुँ करेँ इन्सान को,जमाने की अाधिँयाँ,फजाँ-ए-जमीँ मेँ इतनी ता कत तो नहीँ।तुम समझे थे टूट जायेँगेँ ठोकरोँ से। इन्साँ हैँ हम कोई इमारत तो नहीँ।

174 Posts

167 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 13246 postid : 1322023

आसमान छूने को उठे थे जो हाथ ...."contest "

Posted On: 31 Mar, 2017 Contest में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आजकल समाचार पत्रों और टेलीविज़न में जो ख़बरें सुनने को मिलती हैं उनमें एक बड़ा हिस्सा हिंदुस्तान के उस वर्ग के विषय में होता है जो कहीं भी कभी भी सुरक्षित नहीं है घर बाहर हर जगह वो भेदभाव की शिकार है ,,,. जी हाँ ,हर उम्र और हर वर्ग की महिलाओं ,नाबालिग मासूम कन्यायें और काम काजी महिलाएं सभी एक ऐसी दरिद्रता का शिकार हो रही हैं जिससे हर भारतीय शर्मशार तो रहा है किन्तु इस बुराई को रोक नहीं पा रहा क्यों ?इसी सवाल का जवाब मांगते हैं निम्न काव्य रचना के शब्द ………स्वयं एक पीड़िता की जुबानी ….
राजधानी दिल्ली में हुई निर्भया कांड पर आधारित यह कविता सिर्फ कविता नही बल्कि उस दर्द का अफसाना है जिसको बयान करना भी उस दर्द से गुजरना है जो दुनिया में कहीं भी ,कभी भी किसी ने सहा होगा ,,,,,,,,,,,
क्या कभी वो दिन आएगा जब हम इस भेद भाव से छुटकारा पाकर एक भयमुक्त राष्ट्र का सपना पूरा होते देखेंगे ”’

आसमान छूने को उठे थे जो हाथ
__________________________

पर्दों में थी महफूज़ शर्मों- हया जो हमारी तुम्हारी
खुदा के लिए न यूँ उछालों उन अनमोल से अहसासों को
यूँ सरे बाज़ार चौराहों पे ……………..
आसमान छूने निकले थे जो हाथ
भिंच कर रह गये मुठ्ठी बन कर वो दर्द को सम्भालने में
रह गई बिखर कर ख्वाहिशें सारी
इधर उधर चौराहों पे……………………….
घर की चारदीवारी में रहना था जिसे
बन कर रह गई हैं अब वो बातें
उन अख़बारों की सुर्खियाँ
चर्चा में हैं जो अब चौराहों पे ………………..
ऑंखें बंद है मेरी नही खबर खुद को मेरी
हाल चाल मेरे जिस्म का पता है
इसको ,उस को ,बस मेरे सिवा सबको
पता नही मेरे बारे में क्या क्या तो कहते होंगे
लोग अब तो सरे आम चौराहों पे ……………….
सोचती हूँ यह नींद है या बेहोशी यही अच्छी हैं अब तो
होश में आकर क्या मिलेगा इस जहाँ में मुझे
कुचल कर जहाँ रख दिया मेरे वज़ूद को
जहां सरे आम चौराहों पे ……………….
जिन्दा हूँ मैं पर शर्मिन्दा हूँ मैं
शर्मिंदा है मेरे अपने
शर्मिंदा है इंसानियत
शर्मिंदा है शायद वो ख़ुदा भी
अपने हाथों से रचे अपने उस इंसान पर
तोड़ दी जिसने सारी हदें इंसानियत की
और बन कर दरिंदा घूम रहा जो आज भी
सरे आम चौराहों पे ……………
क्या सजा देगा कोई क़ानून इन गुनहगारों को ?
न जाने कितने पेंच है कानून में ?
खुले घूमेंगे कल फिर यह दरिन्दे
कुचल डालने के लिए
किसी शर्मीली सी कली को
फिर सरे आम चौराहों पे .,,,,,,,,,,,
वो जो बैठे है ऊँची ऊँची .कुर्सियों पर
उनका सो गया ज़मीर ही शायद
बंद है जुबा उनकी न जाने किसके डर से
कुंद हो गये है अहसास भी उनके अब तो
सामने है मुज़रिम
लेकिन हाथ बंधे है सबके
सज़ा कैसे देनी है ?
कितनी देनी है ?
कब देनी है ?
देनी भी या नहीं ?
बस इसी चर्चा में बीत रहें हैं दिन आजकल
मेरे इस महान देश के
हर शहर के चौराहों पे …

सरोज सिंह
8 जून 2017



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran